भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो रिश्तों के बीच में डर फैलाते हैं / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो रिश्तों के बीच में डर फैलाते हैं
अपना कचरा सब के घर फैलाते हैं

घोला जाए अब विश्वास हवाओं में
उड़ने वाले पंछी पर फैलाते हैं

हम लोगों को राह बनाकर चलना है
फैलाने दो जो पत्थर फैलाते हैं

दिल का दर्द उभर आता है ग़ज़लों में
हम जब आंसू काग़ज़ पर फैलाते हैं

दुनिया वाले प्यार की भाषा समझेंगे
अपने बाज़ू हम अकसर फैलाते हैं