भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जो रे जमदूत अभी अइर्हे तो फेर कभी / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो रे जमदूत अभी अइर्हे तो फेर कभी
मौत के सनेश तभी, हमरा सुनइर्हे।
तन में पियास अभी, मन में हुलास अभी
दिल में उसास तनी, अभी ना उठइर्हे।
अभी तेॅ विहान होलै, जिनगी जुआन होलै
तनी सुख मान होलै, अभी ना रूलइर्हे।
दुनिया में एक पर, एक सुख भूमि पर
रूक तनी देर कर, अभी ना ले जइर्हे॥