भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो हम नहीं कहते / शुभा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह परिस्थितियाँ हीं हैं जो
आदमी के अन्दर ढल रहीं हैं क्रूरता की तरह
कभी विवशता की तरह
एक सामाजिक संरचना हिंसा बनकर उतरती है आदमी में
हम कहते हैं फलाने ने फलाने की हत्या कर दी
हम नहीं कहते कबीलों में हत्या होती ही है
परायों की

हम उस चीज़ को नहीं देखते जो
लोगों को अपने पराए में बाँटती है
इन्सान विभाजित हो जाता है अपने अन्दर ही
हम इस विभाजन को नहीं देखते

हम कहते हैं उसने हत्या की या उसने आत्महत्या की
आस-पास ही खोज लेते हैं हम कोई कारण भी

जैसे पुलिस जब चाहती है सबूत जुटा लेती है
या उन्हें मिटा डालती है।