भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जौ जी रजऊ रजऊ के लानें / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जौ जी रजऊ रजऊ के लानें
का काऊ सें कानें।
जौं लों जीनें जियत जिन्दगी
रजऊ के हेत कमानें।
पेले भोजन करें रजऊ आ,
पाछे कें मोय खानें।
रजऊ रजऊ कौ नाँव ईसुरी
लेत लेत मर जानें।