भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जौ लों जग में राम जियावैं / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जौ लों जग में राम जियावैं।
जे बातें बरकावै।
हात पाँव दृग-दाँत बतीसउ
सदा एक से राबैं।
ना रिन ग्रेही करै काऊ खाँ
ना घर बनौ मिटावै।
आपुस की बनी नइँ बिगरै
कुलै दाग ना आवै।
इतने में कुछ होय ईसुरी
बिना मौत मर जावै।