भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज्योति को दुख ने किया पावन / केदारनाथ मिश्र ‘प्रभात’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज्योति को दुख ने किया पावन
सूर्य कण-कण रक्त से सींचा

समय का रथ रथी-सा खींचा
प्लव बना पथ, पथ बना प्लावन

एक उद्बोधन, खुले तारे
एक आश्वासन, बिना हारे

चल पड़ा है, चल रहा जीवन