भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ज्वालामुखी गिरि तैं गिरत द्रवे द्रव्य कैधौं / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज्वालामुखी गिरि तैं गिरत द्रवे द्रव्य कैधौं
बारिद पियौ है बारि बिष के सिवाने में ।
कहै रतनाकर कै काली दाँव लेन-काज
फेन फुफकारै उहि गाँव दुख-साने में ॥
जीवन बियोगिनी कौ मेघ अँचयौ सो किधौं
उपच्यौ पच्यौ न उर ताप अधिकाने में ।
हरि-हरि जासौं बरि-बरि सब बारी उठैं
जानै कौन बारि बरसत बरसाने में ॥112॥