भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झगड़ा परो भरम को भारी / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झगड़ा परो भरम को भारी।
उरज रहो जंजाल जाल में अति मन भयो दुखारी।
दीन बंद हर अधम उधारन सुनियो टेर मुरारी।
साद गऊ दुज दीन दुखत हैं सबकी विपत निवारी।
भयो सरन समूह तुमारे हेरो पलक निहारी।
दीन बंद दीनन प्रति पालन नाम कल्पतरु भारी।
आनंद भवन स्यामधन सूरत कृपा सिद्ध बलधारी।
जूड़ीराम दीन की विनती सुनिये बृम विहारी।