भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

झापी धर्या बेटा कपड़ा रे भाई / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

लाओ नऽ बारी घर के पान सारे रे
मंगत की बिड़ल होय, रामा
बिजोड़ो दे रे भाई।।
चंदन का पलखा पऽ जाजम बिछाई रे भाई।।
मंगत की बैठक होय, रामा
बिजोड़ो दे रे भाई।।
गाँवज गाँव का सखा आया रे भाई
मंगत की भई रे पुकार, रामा
बिजोड़ो दे रे भाई।।

</poem