भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झीमी रे झीमी डो नी घामा लाकेन आयोम / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

झीमी रे झीमी डो नी घामा लाकेन आयोम
झीमी रे झीमी डो नी घामा लाकेन आयोम
आयोम का उदरी उदरी सुवाय सरावना चिचरी
आयोम का उदरी उदरी सुवाय सरावना चिचरी
सुवाय डो इयां माई टाला चिचरी चोजा
सुवाय डो इयां माई टाला चिचरी चोजा
सुबान्ना आयो इयां रानी झूला सुबाने
सुबान्ना आयो इयां रानी झूला सुबाने
सराबना बेटा जा सराबना बेटा कजली वन डो
सराबना बेटा जा सराबना बेटा कजली वन डो
बिंदरावन सेने जा कोन्जई लुटीज माट मागेजा
बिंदरावन सेने जा कोन्जई लुटीज माट मागेजा
बेटा लुटीज माट माये डो इयां आयोम लुटीज माट
बेटा लुटीज माट माये डो इयां आयोम लुटीज माट
माये माकान सोना कोडी आरूई अरूई जा
माये माकान सोना कोडी आरूई अरूई जा
सराबना बेटा अंधड़ा बा डो आधड़ी माई
सराबना बेटा अंधड़ा बा डो आधड़ी माई
केन कौडी सावींज जा बेटा गंगा सुमुदूर
केन कौडी सावींज जा बेटा गंगा सुमुदूर
ऐ ऐन डो इयां आयोम गंगा सुमुदूर ऐ ऐन
ऐ ऐन डो इयां आयोम गंगा सुमुदूर ऐ ऐन
माका विरा हे आगरू कीमी इयां बेटा गंगा सुमुदूर
माका विरा हे आगरू कीमी इयां बेटा गंगा सुमुदूर
घाव जा सागे चाल को डो ठोपडे
घाव जा सागे चाल को डो ठोपडे
टेन डा डो इयां माई छाती तेन ऐ ऐन
टेन डा डो इयां माई छाती तेन ऐ ऐन
डो इयां माई पूरुसम टेन ऐ ऐन डो इयां
डो इयां माई पूरुसम टेन ऐ ऐन डो इयां
माई टाला धार जा डोगे जा इयां नी बेटा
माई टाला धार जा डोगे जा इयां नी बेटा

स्रोत व्यक्ति - माखन, ग्राम - आमाखाल