भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झूठे टाही लगवले बाड़, मिली ना / अंजन जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूठे टाही लगवले बाड़, मिली ना
ओह ऊसर में गुलाब खिली ना ।
जानते बाड़, जवन भूत ध लीहले बा
केतना फूंक मारल जाई, ढिली ना ।