भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

झूठो संसार सार यामे कछु है ही नाहीं / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूठो संसार सार यामे कछु है ही नाहीं,
                      मेरा ये मेरा करत, कौन यहाँ अपना है |
आया कर करार और बीती रैन हुआ भोर,
                     अब तो कर गौर,देख झूठा सा सपना है |
माया भरमाया भाया काया जली बहुतों की,
                      मर-मर के गये लोग करके कल्पना है |
कहता शिवदीन कहो वाणी से राम-राम,
                   चार दिन मुकाम यामें राम-राम जपना है |