भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झूठ ही मुस्कुरा दिया होगा / गोविन्द राकेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूठ ही मुस्कुरा दिया होगा
दर्द दिल का छुपा दिया होगा

आख़िरी साँस थमने से पहले
हाथ अपना हिला दिया होगा

पाँव तो उठ सका नहीं उसका
भूख ने भी सता दिया होगा

चीख़ भी ज़़ोर से नहीं पाया
आह को भी दबा दिया होगा

आँख उसकी हुई ज़रा-सी नम
दिल किसी ने दुखा दिया होगा