भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

झूला डरो कदब की डार / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

झूला डरो कदंब की डार
झूलें राधा प्यारी ना। झुला...
कौना झूले कौन झुलावे,
ऋतु मतवारी ना। झुला...
राधा झूलें श्याम झुलावें,
बदरा छाये ना। झुला...
कौना गावें कौना बजावें,
कौना नाचे ना। झुला...
सखियाँ गावें कृष्ण बजावें,
ग्वालें नाचे ना। झुला...