भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

झूला डरो कनक मदिर मे / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

झूला डरो कनक मंदिर में
झूलें अवध बिहारी ना।
राम लक्षिमन झूला झूलत,
सिया दुलारी ना। झूला...
भरत शत्रुहन मारत पेंगे,
हनुमत, झलत बयारी ना। झूला...
कोयल कूकत नाचत मोरा,
शोभा देख निराली ना। झूला...
सखियां सबरी कजरी गावे,
खुशियां छाई ना। अवध में...