भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

झूला पड़ गयो रे आगन मे / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

झूला पड़ गयो रे आंगन में
बन में नाचे लागी मोर।
को जो झूलें को जो झुलावें
को जो खींचे डोर।
गणपति झूलें शंभु झुलावें
गौरा खींचे डोर। झूला...
कौना महिना जन्म भयो है
कौने नाम धरायो। झूला...
भर भादों में जनम भयो है
गणपति नाम धराये। झूला...
काहे को इन्हें भोग लगत है
काहे पे होत सवार। झूला...
मोदक को इन्हें भोग लगत है
मूषक पे होत सवार। झूला...