भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झूले नदलाल झुलाओ सखी पालना / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

झूलें नंदलाल झुलाओ सखी पालना
काहे के तोरे बनो पालना,
काहे के लागे फंुदना। झूलें नन्दलाल...
अगर चंदन के बने हैं पालना,
रेशम की डोरी रुपे के लागे फंुदना। झूलें नन्दलाल...
को झूलें को जो झुलावे,
को जो बलैया लेत मुख चूमना। झूलें नन्दलाल...
कान्हा झूले, सखिया झुलावें,
यशोदा बलैया नंद मुख चूमना। झूलें नन्दलाल...