भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टकटकाटक / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ नरम खरगोश के जैसे
कुछ हाथी के जैसे होते।
कुछ तो बड़े भयानक होते
कुछ प्यारी मम्मी से होते।

लगता जैसे बैठ पीठ पर
घोड़ों की आते हैं ये तो।
आंखों के जगते ही जाने
कहां-कहां जाते हैं ये तो।

कभी ये चलते टकटकाटक
और दौड़ते कभी टपाटप।
कभी हंसाते, कभी रुलाते
कभी कराते काम खटाखट।

लगता जैसे खेल खिलाते
आते हैं जीवन में अपने।
कुछ भी हो पर हमें जरूरी
लगते हैं जी अपने सपने।