भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टाई लगा पहनकर कोट / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टाई लगा, पहनकर कोट
आए धम-धम मिस्टर पाल,
आया घर-घर में भूचाल
आए, आए मिस्टर पाल।

डंडा हिला-हिलाकर बोले-
तुमने मुझको क्या समझा है?
अभी उधेड़ता सबकी खाल!
लाल-लाल चमकाते गाल,
आए-आए मिस्टर पाल!

तभी चौंक नन्ही ने देखा
टोप मगर कुछ फटा हुआ है,
मैला-मैला सूट पुराना
उखड़े हैं मूँछों के बाल,
ये कैसा है इनका हाल!

बोल पड़ी-ओ बहुरूपिए
भैया, यह कैसी है चाल,
रंग पोतकर चमकाए क्या
लाल-लाल क्यों इतने गाल?
चौंक गए तब मिस्टर पाल!

लिए हाथ में नकली मूँछें
भागे झटपट मिस्टर पाल,
जैसे आए मिस्टर पाल
वैसे भागे मिस्टर पाल-
मचा गए सचमुच भूचाल!