भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टाबर / श्याम महर्षि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


टाबरां रो
हुवै है
न्यारो निरवाळो संसार
मेह सूं भिजैड़ी
माटी सूं बणावै
टाबर रमतिया
पींडिया, गोगामेड़ी
अर घर-कुण्डिया,

टाबर बणावै
आपरो नूंवों संसार
माटी रा चुल्हा-चाकी
अर बरतना सूं
कारज करणै री
रीत पाळै
पोमीजै,

टाबर
आपरी मां दांई
धोवणा चावै कपड़ा
काड़णी चावै झाडू
अर दादी जियां
करणौ चावै लाड
आपसूं छोटा रो।