भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टिकुलिया तरके बिंदिया हजार जीउआ मारे राम / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टिकुलिया तरके बिंदिया हजार जीउआ मारे राम।
सास देहली टिकुली ननद देहली बेन्दुली राम,
सुरती चुनरिया हम नइहरा झमकइबों राम।
प्रेम खजाना धई सिरहाना भगती के सेजिया डँसइबो राम।
गगन गुफा में अनहद बाजा ताही बीचे सुरती रमइबों राम।
कहत महेन्द्र ओही धरे जाना जहवाँ से बहुरि नाहीं अइबों राम।