भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टिक-टक सुइयाँ तीन, घड़ी की / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टिक-टिक
सुइयाँ तीन,
घड़ी की।

दिन में बारह गाँव चलेंगी।
छोटे-छोटे पाँव चलेंगी।
आधी रात गुजर जाएगी,
तब फिर बार गाँव चलेंगी
टिक-टिक
सुइयाँ तीन,
घड़ी की।

एक ‘सैल’ पर इतराएँगी।
नए जोश से भर जाएँगी।
‘सैल’ जहाँ कमजोर हुआ तो
वहाँ अचानक रुक जाएँगी।
टिक-टिक
सुइयाँ तीन,
घड़ी की।