भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टिन्नीजी! / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टिन्नीजी! ओ टिन्नीजी!
ये लो एक चवन्नी जी।
बज्जी से प्यारा-प्यारा
लाना छोटा गुब्बारा।
ऊपर उसे उड़ाएँगे,
आसमान पहुँचाएँगे।

टिन्नीजी! ओ टिन्नीजी!
ये लो एक चवन्नीजी।
बज्जी से ताजी-ताजी
लाना पालक की भाजी।
घर पर उसे पकाएँगे,
साथ बैठकर खाएँगे।

टिन्नीजी! ओ टिन्नीजी!
ये लो एक चवन्नीजी।
जल्दी से बज्जी जाना,
एक डुगडुगी ले आना।
डुग-डुग उसे बजाएँगे,
मिलकार गाने गाएँगे।