भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टिफिन खुल गया बस्ते में / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक मुसीबत खड़ी हो गई
टिफिन खुल गया बस्ते में।
च्...च् गलती बड़ी हो गई
टिफिन खुल गया बस्ते में।

सब्जी में था तेल-मसाला,
ढक्कन था कुछ ढीला-ढाला।
यही बड़ी गड़बड़ी हो गइ
टिफिन खुल गया बस्ते में।

रैंगी किताबें सब हल्दी में
उफ, मम्मीजी की जल्दी में।
किस्मत अपनी सड़ी हो गई
टिफिन खुल गया बस्ते में।

गलत मुहूरत निकला घर से
अब क्या बोलूँगा टीचर से।
आफत की हर घड़ी हो गई
टिफिन खुल गया बस्ते में।