भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टिल्ली-लिल्ली / आचार्य अज्ञात

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ईची-मीची, आँखें भींची,
आया लटकू, बैठा मटकू
खट-खट खटका, फूटा मटका
खीं-खीं बिल्ली, टिल्ली-लिल्ली।