भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टुकड़ा टुकड़ा सच / राजेश श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वक्त की दौड़ में वही सफल माने गए
अजनवी होकर भी जो पहचाने गए।

सब कुछ देखने का दावा किया जिसने
घोषित हुआ वही सबसे पहले अंधा
एक आदमी का बोझ न उठा जिससे
जाने कितने शव ढो चुका है वह कंधा

बाँस की दीवारें और छतें पुआल की
हर सावन को चाय की तरह छाने गए।

हो न जाए बौना कहीं आदमकद आपका
यही सोचकर रहा हूँ अब तक मैं छोटा
अंधे को नहीं तो नैनसुख को मिलेगा
सिक्का सिक्का है, खरा हो या खोटा

न्याय बंदरों से जब भी कराने गए
मुँह के कौर गए, हाथों के दाने गए।