भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टुनटुनियाँ! / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टूँ-टूँ टिन-टिन
टिनक-टिनक-टिन
टुनटुनियाँ

छूँ-छूँ छिन-छिन
छिनक-छिनक-छिन?
छुनछुनियाँ।

खों-खों-खस्सू!
अब भग जा तू,
टुनटुनियाँ को
नहीं सता तू
मिट्ठी-मिट्ठी
दवा गिटककर
सो जाएगी टुनटुनियाँ।

बहुत हो चुकी
छीं-छीं, छूँ-छूँ,
खों-खों-खस्सू।
अब भग जा तू,
नहीं भगी तो
डंडा लेकर
आ जाएगी छुनछुनियाँ।