भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टूटती है सदी की ख़ामोशी / विनोद तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


टूटती है सदी की ख़ामोशी
फिर कोई इंक़लाब आएगा

मालियो! तुम लहू से सींचो तो
बाग़ पर फिर शबाब आएगा

सारा दुख लिख दिया भविष्यत को
मेरे ख़त का जवाब आएगा

आज गर तीरगी है किस्मत में
कल कोई आफ़ताब आएगा