भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टूटने और जुड़ने के बीच / स्वरांगी साने

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं झुकती रही
टूटती रही रोती रही
थी मैं लड़की
इसलिए लगातार हारती रही
मैं जीतने के लिए पैदा हुई थी
मुझे हार के लिए तैयार किया जाता रहा

जीना और जीतना चाहती थी मैं भी
पर मुझे लड़की की तरह बड़ा किया गया
मेरी परवरिश ही वैसी थी

मैं जीती रही उम्र भर
टूटने और जुड़ने के ही बीच