भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टूट कर आईना लगे है मुझे / ज़िया फ़तेहाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टूट कर आईना लगे है मुझे |
वो जो बन्दा ख़ुदा लगे है मुझे |

मैं भले को बुरा कहूँ क्यूँ कर
है बुरा जो भला लगे है मुझे |

ठीक ही तो पता बताया था
फिर भी कुछ ढूंढ़ता लगे है मुझे |

किसी आँगन में बजती शहनाई
क्या बताऊँ कि क्या लगे है मुझे |

रात भर नाचता नचाता रहा
वो मेरा साँवला लगे है मुझे |

माँग कर दिल हुआ शिकार ए ख़िरद
ये तो मेरी ख़ता लगे है मुझे |

ये जो बैठा है हुजरा ए दिल में
मैं नहीं दूसरा लगे है मुझे |

कमसुख़न कमनिगाह कमआमेज़
कोई शायर " ज़िया " लगे है मुझे |