भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टूट गया इकतारा / मधुरिमा सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टूट गया इकतारा
जोगी,
टूट गया इकतारा
झूठे प्रेम को गाते-गाते, टूट गया इकतारा
एक नाम को जपते-जपते, छूट गया जग सारा
तन का भोगी जीता अक्सर, मन का जोगी हारा
क्षितिजों के संग भाग-भागकर, मन हारा बेचारा
हर बादल से पानी माँगे, प्यासा सागर खारा
नगरी-नगरी ढूँढे तुझको, आँखों का बंजारा
जलते-जलते चटकी लकड़ी, छिटक गया अंगारा
नैनों की नैया ले डूबा, सपनों का मछुवारा
मधु साँसों के पंछी ने तो, सोनल पंख पसारा