भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टेलिविजन / नवारुण भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक चौकोर आयतन
एक तरफ पर्दा
एक दैनिक ताबूत
ताबूत के भीतर
जो हँसते हैं, ख़बर पढ़ते हैं,ख़बर होते हैं
उनकी विचित्र करामातें
बहुत पसंद हैं जो जीते जी मरे लोगों को
एक ठंडे स्टूडियो से
मरी हुई सिने तारिका का प्रेम
अँधेरे टावर से
भेजा जाता है
उसे देखकर बच्चे और बच्चों की माँएँ
ख़ुश होती हैं।
 
मृतक की दूरदृष्टि
इस दैनिक ताबूत के पर्दे पर
मृत डालफ़िन का खेल
रोज़ चौकोर ताबूत के पर्दे पर
मृत्यु कितनी दूरदर्शी है
इस चौकोर बक्से के भीतर।

मृत फ़िल्मी तारिका के माँस की खोज में
कई तिलचट्टे और एक चूहा
ताबूत में घुसकर
देखते हैं तारों और ट्राँज़िस्टरों की
एक जटिल समाज व्यवस्था।