भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ट्यूटर / अर्पण कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

महानगर में पढ़नेवाला
सातवीं का बच्चा

उसका ट्यूटर उसके गाल पर
हलकी चपत लगाता है
बच्चा शीघ्र ही
अपनी कलम की नोंक
ट्यूटर की कलाई पर
 दे मारता है

शिक्षक-शिष्य का संबंध
उसके लिए
कोई मायने नहीं रखता

वह इतना ही सोच पाता है---
‘किसी ने उसे थप्पड़ मारा है
और वह उसका प्रत्युत्तर देगा’।