भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठंड का गीत / संजय अलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


गरम-गरम रजाई है
उसमें बहन और भाई हैं
दोनों ने खाई मलाई है
और छुपाई मिठाई है

गरम-गरम रजाई है
उसमें गुड़िया सुलाई है
उसको चुनरी पहनाई है
जिसमें सितारों की टंकाई है

साथ में माँ आई है
उसने कहानी सुनाई है
परी की बात बताई है
हमने मस्ती मनाई है