भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठंड से काँप रहा हूँ मैं / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: तेरे क़दमों का संगीत
»  ठंड से काँप रहा हूँ मैं

ठंड से काँप रहा हूँ मैं

गूंगा ही बना रहना चाहता हूँ

पर आकाश में नाच रहा है स्वर्ण

मुझे आदेश दे रहा है गाने का


क्लान्त हो

ऎ बेचैन संगीतकार !

प्रेम कर, स्मरण कर और रो

पकड़ वह हल्की गेंद

फेंकी गई है जो

उस मद्धिम झिलमिलाते ग्रह से


कितना वास्तविक है

सम्बन्ध उस रहस्यमय दुनिया के साथ ?

कितनी तीख़ी उदासी है

कितनी भयानक बेचारगी है नाथ ?


कहीं ऎसा तो नहीं

सदा झिलमिलाने वाला

यह सितारा

टिमटिमा रहा है ग़लती से

मुझे तकलीफ़ दे रहा है

खरोंच रहा है जैसे

जंग लगे अपने बकसुए से

शरीर मेरा सारा


(रचनाकाल : 1912)