भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठगिनी नाच नचाए / राम सेंगर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाकाफ़ी-सा लगे
कहन का
तेवर नया - नया ।

धरम अहम् का
सधे न साधे
ठगिनी नाच नचाए ।
बाल नौंचता डोम
सुअर
तड़पे चीख़े चिल्लाए ।
धर-धर कर पुड़ियों में बाँटें
नँगे, शर्म-हया ।

फूट असँगति से
लहकें
सब तलब उड़ी बजमारी ।
फाँक-फाँक से बचे
समय की
झेली हर मक़्क़ारी ।
युद्धस्तर पर उतर पड़े हैं
बन्दर और बया ।

नाल-छातियाँ -
बूट-केंचुए -
आँखें बहेलियों की ।
जनबच्चों से
लगे खोलने
गाँठें पहेलियों की ।
मोम झोंपड़ी की दिवाल का
पूरा पिघल गया ।

नाकाफ़ी-सा लगे
कहन का
तेवर नया-नया ।