भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठाकुरजी / हरि शंकर आचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ साच है
कै तूं
हां, तूं ही तो है,
कण मांय अर मण मांय।
दसूं दिसावां
आठूं पौर
तूं है सुलभ
अर सगतीमान।
जद ही तो होय जावै
थारा दरसण सोरै-सांस।
मिल जावै
माथो टेकतो
हर चौरायै अर मोड़ माथै
माचिस री बिना तील्यां री
डब्बी सूं लेय’र
खैणी रै रद्दी कागद तांई।