भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ठाढे़ पिक बयनी मृग नयनी लिये सुमन माल / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ठाढे़ पिक बयनी मृग नयनी लिये सुमन माल,
ले लो नृपलाल बाल उमिर तिहारी है।
मालीगण मगन मन देखि के मुखार बिन्द
लाजत अरविनद रूप बसुधा से न्यारी है।
तीन लोक झाँकी ऐसी दूसरो न झाँकी
जैसी झाँकी आज झाँकी बाँकी जुगल तिहारी है।
द्विज महेन्द्र रामचन्द्र लीजिए हमारो नाथ
गजरा बहारदार पास में हमारी है।