भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठुमक-ठुमककर चलें हवाएं / शकुंतला कालरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूले पलना मेरी गुड़िया,
हौले-हौले आना निंदिया।
गोरे मुख पर काली अलकें,
थकी-थकी-सी भारी पलकें।
झूले पलना मेरी गुड़िया,
हौले-हौले आना निंदिया।
धरती सोई, नभ भी सोया,
सागर भी सपनों में खोया।
झूले पलना मेरी गुड़िया,
हौले-हौले आना निंदिया।
ठुमक-ठुमककर चलें हवाएं,
मीठी-मीठी लोरी गाएं।
झूले पलना मेरी गुड़िया,
हौले-हौले आना निंदिया।