भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ठुमुक-ठुमुक नाच रह्यो श्याम आगन मे झाक रही मैया / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ठुमुक-ठुमुक नाच रह्यो श्याम, आंगन में झांक रही मैया।
मैया को देख हँसो श्याम, शरम गयेा बारों। कन्हैया...
सर पे बंधो मोर मुकुट, मोहन ने उतार दियो
हाथों में बाजूबंद, मोहन ने डार दियो
कर न सकूं मैं बयान, शरम गयो बारों। कन्हैया...
कमर में करधोनी, मोहन ने उतार दई
पीताम्बर पट की किनारी भी फाड़ दई
अंगना में लोट गयो, श्याम शरम गयो बारों। कन्हैया...
दौड़ी आई मैया, झट गोद में उठाय लियो
आंचल से आंसु पोंछ, गोद में बिठाय लियो
चंदा को देख हँसो श्याम, शरम गयेा बारों। कन्हैया...