भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठूंठ / राखी सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समृद्ध हो सकता था
किसी विशाल वृक्ष समान
लदे रह सकते थे मीठे फल उसपर
पंक्षियों के कलरव से
गुंजायमान रहता पवन
कई नए पौध पनपते, बीज से उसके

परन्तु आह री नियति!
या प्रकृति उसकी
पितृ अर्पण को न होगा वंश कोई

ऐंठ कर टूट गया
अहं में श्रापित ठूंठ वह!