भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डर भी पर लगता तो है न / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चटख मसाले और अचार
कितना मुझको इनसे प्यार!
नहीं कराओ इनकी याद
देखो देखो टपकी लार।

माँ कहती पर थोड़ा खाओ
हो जाओगी तुम बीमार
क्या करूं पर जी करता है
खाती जाऊं खूब अचार।

पर डर भी लगता तो है न
सचमुच पड़ी अगर बीमार
डॉक्टर जी कहीं पकड़ कर
ठोक न दें सूई दो-चार।