भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डर / कुमार अजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हुयसी वौ मोटौ डूंगर
थारी निजर मांय
पण बूझ किणी छिण
वीं रै मांयलै सूं
कित्तौ डर है वठै
म्हारै भीतरली
चिन्हीक-सी बारूद रौ।