भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डर / राजू सारसर ‘राज’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

डर लागै
बा’रै बावडौ मेलतांई
बिसवास रा
पग जमै कठै
उणां रै हेठै
जमीं कोनीं।
भाई
बाप
सैणां तकात सूं
करतां बंतळ
राखणी पडै़
कीं ना कीं छैटी
कांई ठाह?