भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डिक्शनरी / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

डिक-डिक, डिक-डिक डिक्शनरी!

डिक्शनरी में पेज हजार।
शब्दों का अद्भुत भंडार।
ऊपर से लगते सब एक।
पर शब्दों के भेद अनेक।
डिक-डिक, डिक-डिक डिक्शनरी!

माथा-पच्ची, खेलम-खेल।
शब्दों की यह लंबी रेल।
भूल-भुलैयाँ भरा सफ़र।
भटक न जाना इधर-उधर।
डिक-डिक, डिक-डिक डिक्शनरी!

नए शब्द, पहली पहचान।
उनके सही अर्थ का ज्ञान।
भाषा में उनका उपयोग।
डिक्शनरी से सीखे लोग।
डिक-डिक, डिक-डिक डिक्शनरी!