भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डूंडो / नाव / चक्रधर बहुगुणा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिरिरि, हिरिरि बगद गाड
ढलकणू छ डूंडो।
खेलेल्यो क्या धुनार?
डांड पड़यूं खूंडो॥

बौलि गैने यै छलार
नीं दिखंद वार पार।
कथैं दौं छ छांद धार
थाति नी छ खूंटो।

हिरिरि, हिरिरि बगद गाड
ढलकण छ डूंडो।

उरड़ो उठिगे अथाह,
मिटिगे सब धूप छांह,
भूलि गैने सभी थाह
बाड़, भीत, मूंडो।

हिरिरि, हिरिरि बगद गाड
ढलकणू छ डूंडो॥

लोगु की छ कच्चि आस,
तू परेख ले सहास
चलनी नी जुगेती खास
टुट-मणो न टूणो।

हिरिरि, हिरिरि बगद गाड
ढलकणू छ डूंडो॥

बढिगे! बढिगे! नयार
हे धुनार, कख छ पार?
त्वै मू अब क्या छ सर?
कनै रहण ज्यूंदो?

हिरिरि, हिरिरि बगद गाड
ढलकणू छ डूंडो॥

नीलो हँसण अकाश
ऐगे यौ औत पास,
लगीं जोर की छ ढास
रींग पड़े डूंडो

हिरिरि, हिरिरि बगद गाड
ढलकणू छ डूंडो॥

शब्दार्थ