भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

डूब चलो दिन माय साझ भई मदिर मे / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

डूब चलो दिन माय, सांझ भई मंदिर में।
काहे के मैया दियला बने हैं
काहे की डारी जोत। सांझ भई मंदिर में
सोने के मैया दियला बने हैं,
रूपे की डारी जोत। सांझ...
कौन सुहागन दियरा जारें,
कौना ने डारी जोत। सांझ...
सीता सुहागन दियरा जारे,
रामा ने डारी जोत। सांझ...
कहां बनी मैया तोरी मडुरिया,
कौना भयो रखवार, सांझ...
ऊंचे पहाड़ मैया बनी मडुरिया,
लंगुरा भये रखवार। सांझ...
सुमिर-सुमिर मैया तोरे जस गाऊं,
चरणन की बलिहार। सांझ...