भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डोरी डार दे महल चढ़ि आवै / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

डोरी डार दे महल चढ़ आवै रसिया
डोरी डार दे
जब के रसिया गोइड़वा मां आई
बाढ़ि उठीं बैरिन नदिया - डोरी डार दे
डोरी डार दे महलि चढ़ि आवइं रसिया
जब के रसिया दुअरवा मां आई
भूंकि उठि बैरिन कुतिया - डोरी डार दे
डोरी डार दे महलि चढ़ि आवइं रसिया
जब कै रसिया बरोठवां मां आई
धाइ परीं महतारी बिटिया - डोरी डार दे
डोरी डार दे महलि चढ़ि आवइं रसिया
जब कै रसिया अंगन बिच आई
मारि दिहिनि बैरिनि बिछिया - डोरी डार दे
डोरी डार दे महलि चढ़ि आवइं रसिया
जब कै रसिया सेजरिया मां आई
टूटि परीं बैरिनि खटिया - डोरी डार दे
डोरी डार दे महलि चढ़ि आवइं रसिया
डोरी डार दे