भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ढपलू जी रोए आँ... ऊँ ! / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढपलू जी स्कूल गए,
बस्ता घर पर भूल गए;
मैडम ने आकर डाँटा,
मारा हल्का-सा चाँटा;
ढपलू जी रोए आँ...ऊँ !
मैं ’ईछकूल’ नहीं जाऊँ ।

ढपलू जीब ैठे खाने,
कच्ची मक्की के दाने;
खा कर पेट लगा दुखने,
चेहरा खिला लगा बुझने;
ढपलू जी रोए आँ...ऊँ !
मैं ये भुत्ता न खाऊँ ।

ढपलू जी ने ढम-ढम कर,
ताल बजाया ढोलक पर;
मम्मी आई, खींचे कान,
बोलीं- ’शोर न कर शैतान !’
ढपलू जी रोए आँ... ऊँ- !
मैं इछ धोलक पल गाऊँ ।