भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ढल रहा है दिन / रविशंकर पाण्डेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढल रहा है दिन

पिघलते फौलाद जैसा
गल रहा है दिन,
ढल रहा है दिन!

गिर रहे
कतरे पिघल कर
ताल में,
आ न पाया
एक भी
क्यों जाल मेंय
हाथ
मछुआरा सरीखा
मल रहा है दिन!

दोपहर पर
हो गयी है
शाम तारी,
परिश्रम पर
कसैला
परिणाम भारीय
सभी मेहनतकशों को
कुछ
खल रहा है दिन!

लाल होकर
शाम होती
सुरमई है,
लगी चुभने
अकेलेपन की
सुई हैय
इस तरह से रोज
खुद को
छल रहा है दिन!